11 June, 2013

Mausam Hai Barish Ka - Monsoon ka Maza Hindi Shayari Ke Sath

Mausam Hai Barish Ka - Monsoon ka Maza Hindi Shayari Ke Sath
मौसम है बरीश का और याद तुम्हारी आती है,
बारीश के हर कतरे से आवाज तुम्हारी आती है,
बादल जब गर्जते है, दिल की धडकन बढ़ जाती है,
दिल की हर एक धडकन से आवाज तुम्हारी आती है,
जब तेज हवाऐं चलती है तो जान हमारी जाती है,
मौसम है बारीश का और याद तुम्हारी आती है..


Mausam hai barish ka aur yaad tumhari aati hai,
Barish ke har qatre se awaz tumhari aati hai.
Badal jab garajte hain, dil ki dharkan badh jati hai,
Dil ki har ek dharkan se awaz tumhari aati hai.
Jab tez hawayein chalti hai to jaan hamari jati hai,
Mausam hai barish ka aur yaad tumhari aati hai.

2 comments:

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete