13 June, 2013

Ek BACHPAN Ka Zamana Tha - Hindi Shayari

Ek BACHPAN Ka Zamana Tha - Hindi Shayari
एक बचपन का जमाना था,
जिस में खुशियों का खजाना था..

चाहत चाँद को पाने की थी,
पर दिल तितली का दिवाना था..

खबर ना थी कुछ सुबहा की,
ना शाम का ठिकाना था..

थक कर आना स्कूल से,
पर खेलने भी जाना था...

माँ की कहानी थी,
परीयों का फसाना था..

बारीश में कागज की नाव थी,
हर मौसम सुहाना था..

हर खेल में साथी थे,
हर रिश्ता निभाना था..

गम की जुबान ना होती थी,
ना जख्मों का पैमाना था..

रोने की वजह ना थी,
ना हँसने का बहाना था..

क्युँ हो गऐे हम इतने बडे,
इससे अच्छा तो वो बचपन का जमाना था..


Ek BACHPAN Ka Zamana Tha
Jis Mein Khushiyo Ka Khazana Tha..

Chahat Chaand Ko Pane Ki Thi
Par DIL Titli Ka Diwana Tha..

Khabar Na Thi Kuch Subah Ki
Na Shaam Ka Thikana Tha..

Thak Kar Aana School Se
Par Khelne Bhi Jana Tha..

Maa Ki Kahani Thi
Pariyon Ka Fasana Tha..

Barish Mein Kagaz Ki Naav Thi
Har Mausam Suhana Tha..

Har Khel Mein Saathi The
Har Rishta Nibhana Tha..

Ghum Ki Zuban Na Hoti Thi
Na Zakhmon Ka Paimana Tha..

Rone Ki Wajah Na Thi
Na Hasne Ka Bahana Tha..

Kyun Ho Gaye Hum Itne Bade
Is Se Achha To

.. Wo Bachpan Ka Zamana Tha ..

8 comments:

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. Koi word nhi h bachpn k wo pal ke liye

    ReplyDelete
  3. bachpan .......yar tune meri 1st gf ki yaad dila di.......thanks..

    ReplyDelete
  4. who wrote this please

    ReplyDelete
  5. अपनी कमजोरी उन्ही लोगो को बताऐँ जो हर हाल मेँ आपके साथ मजबूती से खङे होना जानता हैँ,
    क्योँकि रिश्ते मेँ विश्वास और मोबाईल मेँ नेटवर्क न हो तो लोग गेम खेलना शुरु कर देते हैँ!

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete