04 April, 2013

Meri Zindgi Ki Shayari - Darya Mein Apni

Meri Zindgi Ki Shayari - Darya Mein Apni
दरिया में अपनी कबर बनाने चला गया,
सूरज को डूबने से बचाने चला गया,
खुव्हाइश तो सबसे आगे निकलने की थी मगर,
जो गिर गऐ थे उनको उठाने चना गया,
अपनो की चाहतो में मिलावट थी इस कदर,
तंग आ के दुशमनो को मनाने चला गया..


Darya Mein Apni Qabar Banane Chala Gaya,
Suraj Ko Doobne Se Bachanay Chala Gaya,
Khuwahish To Sab Se Aage Nikalne Ki Thi Magar
Jo Gir Gaya The Unko Uthanay Chala Gaya,
Apno Ki Chahaton Mein Milawat Thi Is Qadar
Tang Aa K Dushmano Ko Mananay Chala Gaya..


3 comments:

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete