कुछ तबियत - Kuch Tabiyat

Hindi Love Shayari - Kuch Tabiyat
कुछ तबियत ही मिली थी ऐसी
चैन से जीने की सूरत न हुई
जिसे चाहा उसे अपना न सके
जो मिला उस से मुहब्बत न हुई.

Kuch tabiyat hi mili thi aisi,
Chainn se jeene ki surat na hui,
Jise chaha usse apnaa na sake,
Jo mila uss se mohobat na hui.


Comments

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular Posts