10 November, 2012

दिवाली होती है - Diwali Hoti Hai

diwali special shayari

तन्हाई में भी मेले हों
आनंद की आभा होती है ,
उस रोज़ दिवाली होती है।।

जब प्रेम के दीपक जलते हों ,
सपने जब सच में बदलते हों ,
मन में हो मधुरता भावों की ,
जब लहकें फसलें चावों की ,
उत्साह की आभा होती है ,
उस रोज़ दिवाली होती है ।।

जब प्रेम से मीत बुलाते हों ,
दुश्मन भी गले लगाते हों ,
जब कहीं किसी से वैर न हो ,
सब अपने हों कोई ग़ैर न हो ,
अपनत्व की आभा होती है ,
उस रोज़ दिवाली होती है।।

जब तन-मन-जीवन सज जाए ,
सद्भाव के बाजे बज जाएं ,
महकाए खुशबू खुशियों की ,
मुस्काए चंदनिया सुधियों की ,
तृप्ति की आभा होती है ,
उस रोज़ दिवाली होती है ।।


1 comments:

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete