06 November, 2012

कभी खामोशी - Kabhi Khamoshi

Hindi Shayari, Sad Shayari
कभी खामोशी भी बहुत कुछ कह जाती है,
 तड़पने क लिए सिर्फ़ यादे रह जाती है..
क्या फ़र्क पड़ता है ,दिल हो या काग़ज़,
 जलने क बाद सिर्फ़ राख रह जाता है.

1 comments:

  1. देखे भारत की हसीनाओ को एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete