24 July, 2014

Sahil Par - Hindi Shayari

| |
1 comments
साहिल पर खड़े-खड़े हमने शाम कर दी,
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी,
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।
Read More

23 July, 2014

Dosti Har Chehre Ki - Dosti Hindi Shayari

| |
1 comments
दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है,
दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है,
रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना,
क्योकि दोस्ती जरा सी नादान होती है...!!!
Read More

21 July, 2014

Kuch Es Kadar - Bachelor Hindi Shayari

| |
1 comments
कुछ इस कदर बढ़ने लगी, इस देश मेँ महंगाई....
मिलती नहीँ है आजकल, हम जैसोँ को लुगाई....
मैँ ये नहीँ कहता कि, लड़कियाँ पैसोँ पे मरती हैँ....
पर सालाना इन्कम, 20 लाख रु. डिमांड करती हैँ....
लड़का भले ही काला हो, शराबी हो या जुआरी हो....
लेकिन उसके घर के बाहर मर्सिडीज या सफारी हो....
हर दिन शॉपिँग ले जाए, ऐसी ख्वाहिश रखती हैँ....
संडे के संडे मूवी की, पहले फरमाईश रखती हैँ....
हम जैसा कोई मध्यम वर्ग का, दूल्हा किसको भाएगा....
महंगाई के दौर मेँ प्यारे, बिन ब्याहे मर जाएगा....
ऐसी विकट समस्या पर, सरकार भी कदम नहीँ उठाती....
हम मासूम कुँवारो के लिए,  बजट कभी क्यूँ नहीँ लाती...
Read More

18 July, 2014

Khushiya Kam - Hindi Shayari

| |
2 comments
खुशियां कम और अरमान बहुत हैं,
जिसे भी देखिए यहां हैरान बहुत हैं,,
करीब से देखा तो है रेत का घर,
दूर से मगर उनकी शान बहुत हैं,,
कहते हैं सच का कोई सानी नहीं,
आज तो झूठ की आन-बान बहुत हैं,,
मुश्किल से मिलता है शहर में आदमी,
यूं तो कहने को इन्सान बहुत हैं,,
तुम शौक से चलो राहें-वफा लेकिन,
जरा संभल के चलना तूफान बहुत हैं,,
वक्त पे न पहचाने कोई ये अलग बात,
वैसे तो शहर में अपनी पहचान बहुत हैं।।।
Read More

17 July, 2014

Tanhai Mein Bhi - Dard Bhari Hindi Shayari

| |
2 comments
तन्हाई में भी कहते है लोग,
जरा महफ़िल में जिया करो.
पैमाना लेके बिठा देते है मैखाने में,
और कहते है जरा तुम कम पिया करो
Read More