X
Hindi Shayari | Love Shayari | Sad Shayari | Punjabi Shayari | Post Hindi Shayari - शायरी भेजे

Tuesday, April 22, 2014

Tujhse Mera Rishta Kya Hai - Love Shayari

| |
0 comments
तुझसे मेरा रिश्ता क्या है,मालूम तो नहीँ मगर,
तेरे लिए दुआ माँगना, अच्छा लगता है..
मेरे कितने पास कितने दूर है तू क्या पता मगर,
मुझे तुझे धड़कनो मेँ बसाना अच्छा लगता है..
तू कितना अपना कितना गैर है क्या पता मुझे ऐ अजनबी
मगर तेरा मुझसे रिश्ता पूछना अच्छा लगता है..
प्यार है या नफरत ये जानूँ कैसे, सामने झगड़ना तुझसे,
फिर तूझे ही मनाना मुझे अच्छा लगता है..
तेरे उजालो को देख खुश होना..
तेरे अंधेरोँ मेँ हाथ ना छोड़ना.. मुझे अच्छा लगता है...
Read More

Monday, April 21, 2014

Ram Dubara Mat Ana - Hindi Shayari

| |
1 comments
राम दुबारा मत आना, अब यहाँ लखन हनुमान नही...
 90 करोड़ इन मुर्दों मे, अब बची किसी के जान नही...
भाई भाई के चक्कर मे अब, अपनी बहनो का ज्ञान नही...
 हम कैसे कह दें कि हिंदू अब, तुर्कों की संतान सभी..
इतिहास भी रो कर शांत हो गया, भगवा पर अभिमान नही...
 अब याद इन्हे बस अकबर है, राणा का बलिदान नही...
हल्दी घाटी सुनसान हो गयी, चेतक का तूफान नही...
 हिंदू भी होने लगे दफ़न, अब जलने को शमशान नही...
बहनो की चीखें गूँज रही, सनातन का सम्मान नही...
 गैर धर्म ही इनके सब कुछ हैं, अब महादेव भगवान नही..
हे राम दुबारा मत आना, अब यहाँ लखन हनुमान नही..

by:  कोमल प्रसाद साहू 
Read More

Tuesday, April 15, 2014

Hindi Shayari With Excellent Meanings

| |
4 comments
बिना लिबास आए थे इस जहां में,
बस एक कफ़न की खातिर,
इतना सफ़र करना पड़ा....!!!!

हज़ारों ऐब ढूँढ़ते है हम दूसरों में इस तरह,
अपने किरदारों में हम लोग,फरिश्तें हो जैसे....!!!!


ये सोच कर की शायद वो खिड़की से झाँक ले,
उसकी गली के बच्चे आपस में लड़ा दिए मैंने....!!!!


समय के एक तमाचे की देर है प्यारे,
मेरी फ़क़ीरी भी क्या,
तेरी बादशाही भी क्या....!!!!


जैसा भी हूं अच्छा या बुरा अपने लिये हूं,
मै खुद को नही देखता औरो की नजर से....!!!!


मुलाकात जरुरी हैं, अगर रिश्ते निभाने हो,
वरना लगा कर भूल जाने से पौधे भी सुख जाते हैं....!!!!


नींद आए या ना आए, चिराग बुझा दिया करो,
यूँ रात भर किसी का जलना, हमसे देखा नहीं जाता....!!!!



मोबाइल चलाना जिसे सिखा रहा हूँ मैं,
पहला शब्द लिखना उसने मुझे सिखाया था....!!!!



यहाँ हर किसी को, दरारों में झाकने की आदत है,
दरवाजे खोल दो, कोई पूछने भी नहीं आएगा....!!!!


"तू अचानक मिल गई तो कैसे पहचानुंगा मैं,
ऐ खुशी.. तू अपनी एक तस्वीर भेज दे....!!!!


"इसी लिए तो बच्चों पे नूर सा बरसता है,
शरारतें करते हैं, साजिशें तो नहीं करते....!!!!


महँगी से महँगी घड़ी पहन कर देख ली,
वक़्त फिर भी मेरे हिसाब से कभी ना चला ...!!"


युं ही हम दिल को साफ़ रखा करते थे ..
पता नही था की, 'किमत चेहरों की होती है!!'


"दो बातें इंसान को अपनों से दूर कर देती हैं,
एक उसका 'अहम' और दूसरा उसका 'वहम'......


पैसे से सुख कभी खरीदा नहीं जाता
और दुःख का कोई खरीदार नहीं होता।


मुझे जिंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं,
पर सुना है सादगी में लोग जीने नहीं देते।
Read More

Wednesday, April 9, 2014

Payar Mohobat Wafa Ki Batein - Hindi Shayari

| |
1 comments
प्यार मुहब्बत वफ़ा की बातें रहने दो बस रहने दो.
 देश प्रेम और सच्चाई की बातें रहने दो बस रहने दो.
कुछ हैं सेवक कुछ नेता गण हैं सारे बनते हैं महानायक.
 आज़ादी की लड़ाई की बातें रहने दो बस रहने दो.
झूठी तसल्ली दे कर सबको भ्रम में डाला छीना निवाला.
 बढ़ती इस मंहगाई की बातें रहने दो बस रहने दो.
कोई देता मंदिर में दान कोई गाता धर्म करम के गान .
 मांगते मासूमों की पिटाई की बातें रहने दो बस रहने दो .
सत्ता धारी और साधू संत सब हैं एक खेत के धान.
 साधू से बने नेता की बातें रहने दो बस रहने दो.
मै क्या मांगू मुझे क्या दोगे और मुझको क्या दे सकते हो.
 ये झूठी हमदर्दाई की बातें रहने दो बस रहने दो ......
Read More

Saturday, April 5, 2014

Bachpan Kuch Aise Beeta

| |
1 comments
Bachpan Kuch Aise Beeta
बचपन कुछ ऐसे बिता जैसे कुछ पल पहले मै बच्चा था
 कुछ ऐसा लगता है अब की शहर से तो मेरा गाँव अच्छा था
भुला सकते भी है कैसे हम अपनी बचपन की यादो को
 बर्फ का गोला ,चूरन की पुडिया घर में मकड़ी के जाला ही अच्छा था
जब सड़क पे गिराता कोई बालू अपना घर बनाने को
 हम चोरी से उनसे छोटे-२ घरौदे बनाते वो ही अच्छा था
भर के हम जब गुब्बारों में नालियों का गन्दा पानी
 एक दुसरे पे उछाला करते थे वो ही अच्छा था
अब के हमारे हीरो ,नेताओ ,घूसखोरो ,घुसपैठियों से तो
 हमारा नागराज ,सुपर कमांडो ध्रुव ,तेनालीराम अच्छा था
रिश्वतो ,मैच फिक्सिंग के बिना अब मजा कहा खेल में
 अपनी तो कांच की गोलिया वो गुल्ली -डंडा ही अच्छा था
अब दिन -रात पैसे कमा के बैंक कितना भी भर लो
 पर वो मुट्ठी में एक रुपये में लगता था संसार अपना था
Read More