10 June, 2012

Shayari by Rajiv Yadav

कदम कदम पे तुम चलो,
हर कदम आपका रंगीन हो,
राह में कही गम ना मिले 
ऐसा आपका नसीब हो

टूट जाती है नींदे,
बिखर जाते है सपने,
वो कभी दिल से जुदा होते 
नहीं, जो होते है अपने.....

By
E-mail :: ry_nib@hotmail.com
Your Name :: Rajiv Yadav