20 June, 2012

Phir Se Rooth Gaiya


फिर से रूठ गया है......
.......... मुझको मनाने वाला,
जा रहा है छोड के....
....... मेरी जिन्दगी बनाने वाला,
कभी तो उसको मैने भी मनाया था..
वो ख्वाब अब नहीं दिखाता...
......... दुनियाँ बनाने वाला,
ऐ काश की हम भी जानते..
........ कैसे मनाते है किसी को,
रूठ कर जाने ना देते उसे...
........ जो था साथ निभाने वाला,
गम दिया उसको जिसने ....
....... कभी गम का साया ना पडने दिया,
दुख दिया उसको ...
.... जो था मुझे खुशीयाँ दिखाने वाला,
ऐ रब..! तु मुझको मिला दे उस से..
..... जिसने कभी किसी को रूलाया नहीं,
जिसने दिखाया है हर पल खुबसुरत और...
....... था प्यार जताने वाला...



Phir Se Rooth Gaiya Hai Mujhko Mana Ne Wala,
Jaa Raha Hai Chodd Ke Meri Zindagi Banane Wala.
Kabhi Toh Usko Maine Bhi Manaya Tha,
Woh Khaab Ab Nahi Dikhata Duniya Banane Wala.
Ae Kaash Ke Hum Bhi Jaante Kaise Manate Hain Kisi Ko,
Rooth Kar Jaane Na Dete Usse Joh Tha Saath Nibhane Wala.
Gham Diya Usko Jisne Kabhi Gham Ka Saaya Na Padhne Diya,
Dukh Diya Usko Joh Tha Mujhe Khushiyaan Dikhane Wala.
Ae Rab! Tu Mujhko Milade Uss Se Jis Ne Kabhi Kisi Ko Rulaya Nahi,
Jisne Dikhaya Hai Har Pal Khubsurat Aur Tha Pyar Jatane Wala

1 comments:

  1. आप के ब्लॉग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है देखे भारतीय सिनेमा की हर खबर एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete