20 May, 2012

वो बन के खुश्बू Woh Bann Ke Khushboo

वो बन के खुश्बू बसता है मेरी साँसों में,
 वो बन के हर्फ रहता है मेरे अलफाज़ो में,
कैसे कह दूँ तनहाँ बसर होती है मेरी जिन्दगी,
 वो बन के साया चलता है मेरी राहों में,
थक कर जब भी बंद हो जाती है आँखे मेरी,
 वो बन के राहत आता है मेरे ख्वाबो में,
इम्तिहान दर इम्दिहान लेता है मेरा, ये जमाना,
 वो बन के हिम्मत आ जाता है मेरे इरादों में,
उसकी चाहत सितारे सजाती है आसमान में मेरे,
 वो बन के चाँद चमकता है मेरी रातों में ...

Woh Bann Ke Khushboo Basta Hai Meri Saanson Main,
 Woh Bann Ke Harf Rehta Hai Mere Alfazoon Main.
Kaise Keh Doon Tanha Basar Hoti Hai Meri Zindagi,
 Woh Bann Ke Saaya Chalta Hai Meri Raahoon Main.
Thak Kar Jab Bhi Band Ho Jaati Hai Aankhen Meri,
 Woh Bann Ke Rahat Aata Hai Mere Khawaboon Main.
Imtihaan Darr Imtihaan Leta Hai Mera, Yeh Zamaana,
 Woh Bann Ke Himmat Aa Jaata Hai Mere Iradoon Main.
Uski Chahat Sitaare Sajati Hai Aasmaan Main Mere,
 Woh Bann Ke Chand Chamakta Hai Meri Raatoon Main