Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

एक अजीब सा मंजर - Ek ajeeb sa manjar

एक अजीब सा मंजर नज़र आता है,
 हर एक आँसु समंदर नज़र आता है,
कहाँ रखू मैं शीशे सा दिल अपना,
 हर किसी के हाथ में पत्थर नज़र आता है..



Ek ajeeb sa manjar nazar aata hai.
 Har ek aansu smandar nazar aata hai
Kahaan rakhoo mein sheeshe sa dil apnaa
 Har kisi ke haath mein patthar nazar aata hai..

Popular Posts