17 January, 2012

जाने क्यों - Jane Kyo

ना जाने क्यों वो हमसे मुस्कुरा के मिलते हैं,
  अन्दर के सारे गम छुपा के मिलते हैं,
जानते हैं आँखे सच बोल जाती हैं,
  शायद इसी लिए वो नज़र झुका के मिलतें हैं

Najane Q wo humse Muskura k milte hai
  Andar k sare gham chupa k milte hai..
Janti h Aankhe sach bol jati hai
  Sayad isliye wo Nazar Jhuka k milte hai