17 January, 2012

एक अदा - Ek Ada

मेरी हर एक अदा में छुपी थी मेरी तमन्ना,
  तुम ने महसुस ना की ये और बात है,
मैने हर दम तेरे ही ख्वाब देखें,
  मुझे ताबीर ना मिली ये और बात है,
मैने जब भी तुझ से बात करनी चाही,
  मुझे अलफाज़ ना मिले ये और बात है,
कुदरत ने लिखा था मुझको तेरी तमन्ना में
  मेरी किस्मत में तु ना थी ये और बात है..

Meri Har Ek Ada Mein Chhupi Thi Meri Tamanna,
  Tum ne Mehsoos Na Ki Ye Aur Baat Hai,
Maine Har Dam Tere Hi Khwab Dekhe,
  Mujhe Tabeer Na Mili Ye Aur Baat Hai,
Maine Jab Bhi Tujh se Baat Karni Chahi,
  Mujhe Alfaz Na Mile Ye Aur Baat Hai,
Qudrat Ne Likha Tha mujhko Tere Tamanna Mein,
  Meri Qismat Mein TU Na Thi Ye Aur Baat Hai...