30 October, 2011

रो पड़े - Ro Pade

उल्फत का जब किसी ने लिया नाम, रो पड़े,
अपनी वफा का सोच के अन्जाम, रो पड़े,

हर शाम ये सवाल, महोब्बत से क्या मिला..
हर शाम ये जवाब की हर शाम रो पड़े,

राह-ऐ-वफा में हमको खुशी की तलाश धी,
दो कदम ही चले थे की हर कदम रो पड़े,

रोना नसीब में है तो औरों से क्या गिला.
अपने ही सिर लिया कोई इल्जाम रो पड़े..


Ulfat Ka Jab Kisine Liya Naam Ro Pade,
Apni Wafa Ka Soch Ke Anjaam Ro Pade,

Har Shaam Ye Sawal Mohabbat Se Kya Mila,
Har Shaam Ye Jawab Ke Har Shaam Ro Pade,

Raah-E-Wafa Mein Humko Khushi Ki Talash Thi,
Do Kadam Hi Cahle The Ke Har Kadam Ro Pade,

Rona Naseeb Mein Hai To Auron Se Kya Gila,
Apne Hi Sar Liya Koi Ilzaam Ro Pade ...!!!