12 August, 2011

देश हमारा - desh hamara

सुन्दर है जग में सबसे, नाम भी न्यारा है,
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है..
जहाँ जाति भाषा से बढ कर देश-प्रेम की धारा है,
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है..

जीता था प्रेम से सबको, है "बापू" उसका नाम,
देश की खातिर जिसने किया अपना जीवन बलिदान।
जहाँ पे वीर भगत, आजाद और "बोस" का नारा है,
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है..

जहाँ पे "सूरज" पूजा और नदीयों में माता गंगा,
चन्द्रमाँ पे लहराया जिसने अपना ध्वज "तिरंगा",
विश्व को जिसने "जीरो" दे कर किया नवयुग का उजियारा है,
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है..

जो सदियों से आज भी हर रिश्ते से प्यारा है,
सिंचा जिसको खुन से हमने और ममता से संवारा है,
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है..

जिस देश को "माँ" कह के हम सब ने दिया सम्मान,
वो है भारत देश महान, वो है भारत देश महान....

Sundar hai jag me sabse, naam bhi nayara hai
Woh desh hamara hai, woh desh hamara hai
Jaha jati-bhasha se badh kar Desh-Prem ki dhara hai
Woh desh hamara hai, woh desh hamara hai

Jita tha prem se sabko, hai "Baapu" us ka naam
Desh ke khatir jisne kiya apna jeewan balidan
Jaha pe vir Bhagat, Azad aur "Bose" ka nara hai
Woh desh hamara hai, woh desh hamara hai

Jaha pe "Suraj" puja aur nadion me mata Ganga
Chandrama pe lahraya jisne apna dhwaj "TIRANGA",
Vishv ko jisne ZERO dekar kiya navyug ka ujiyara hai,
Woh desh hamara hai, woh desh hamara hai

Jo sadion se aaj bhi har rishte se pyara hai
Sincha jisko khun se humne aur mamta se sawara hai
Jaha Ajuba hai vishv ka, kehlata "TAJ" humara hai
Woh desh hamara hai, woh desh hamara hai

Jis desh ko "Mata" keh ke hum sab ne diya samman
Wo hai Bharat desh mahan, wo hai Bharat desh mahan