01 जुलाई, 2011

मज़े मे हुँ


किसी ने भूल से मुझे पूछ लिया कैसे हो, मैने कहा

"दौस्त जिंदगी मे गम है,

गम में दर्द है,

दर्द में मज़ा है,

और मै मज़े मे हुँ...

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें