Skip to main content

Featured

Uski Masrufiyat Mera Intzaar

सब उसकी., मसरूफियत में शामिल हैं...!! बस एक ., मुझ  बे-ज़रूरी के सिवा.....!! #Uski Masrufiyat 

खामोश गुज़र जाते - Khamosh guzr jate



खामोश गुज़र जाते हैं वो करीब से..

सवाल उठते हैं दिल में अजीब से...

वो खफा हैं या ये उनकी अदा है..

शिकायत भी क्या करे अपने नसीब से..




Khamosh guzr jate ha wo krib se

Swal uthte ha dil me ajib se

Wo khafa ha ya ye unki ada ha

Shikayt bhi kya kre apne nasib se

Comments

Popular Posts