12 February, 2011

तु नादाँ हैं - Tu nada hai


तु नादाँ हैं जो मेरे महबुब से ..

.... मेरी पहचान माँग रहा है...

लगता है जैसे चाँदनी से कोई..

...चाँद का पता माँग रहा है...

वो तो मेरे साऐ के पनाह मे जीती है..

लगता है जैसे तु मेरी जान माँग रहा है...




Tu nada hai jo mere mehboob se

meri pehchan mangh raha hai..

Lagta hai jaise chandni se koi ,

chand ka pata mangh raha hai..

Woh to mere saaye ke panah me jiti hai...,

Usse mujhe durr na kar,

lagta hai jaise tu meri jaan mangh raha hai...

0 comments

Post a Comment