08 August, 2010

हमारी महफिल को


हमारी महफिल को फसाना मिल गया..

प्यार की गज़लो को तराना मिल गया.

आपकी दोस्ती ऐसी मिली दोस्त...

जैसे खुदा की तरफ से कोई नज़राना मिल गया...



Hamari mehfil ko fasana mil gaya.

Pyar ki gazlon ko traana mil gaya.

Aapki dosti aisi mili dost,

jaise khuda ki taraf se koi nazrana mil gaya.

0 comments

Post a Comment