02 June, 2010

काश कोई


काश कोई हमे समझ पाता..
काश कोई हमारे दिल के दर्द को जान पाता..
सपना था जिस के साथ जिन्दगी बिताने का..
काश ऊपर वाला उस दुआ को सुन पाता..
हम कोई चाहे हमसे कुछ..

हम क्या चाहे काश कोई ये जान पाता..
आने वाले वक्त ना जाने क्या चाहे हमसे...
हम पस सोचे हम ना जाने क्या हो कल से..
काश तुम जिन्दगी भर साथ चल पाते..
तो जिन्दगी में खुशीयों के रंग भर जाते..

इन आँसुओ मे दर्द है तुम्हे खोने का..
काश कभी तो महसूस कर पाते..
हमने तो तुम्हे अपनी तकदीर समझा..
काश तुम अपनी किसमत बदल पाते..

काश........

0 comments

Post a Comment