30 April, 2010

तेरा चेहरा तेरी आँखे

तेरा चेहरा तेरी आँखे तेरे जैसी बात कहाँ ।
तुम्हे देखते जो गुजरी है, ऐसी कोई रात कहाँ ।

मैने जब सोचा कि तुम बिन जिना मुश्किल बात नही,
दिन तो मुश्किल से ही गुज़रा, तुम बिन गुज़री रात कहाँ ?

ज़हर समय का वह पी लेगा, कहता है तो कहने दो..
लीडर है वो सच न मानें, अब कोई सुकरात कहाँ ।

मेरी आँखों मे बुंदे थी, जब तितली के पंख नुचे,
जी तो चाहे शहर डुबो दूँ, आँखों में बरसात कहाँ ।

तेरी याद के नाखूनों से, रोज उधेड़े जख़्मों को,
मिलन की मरहम की चाहत है, पर ऐसी कोई रात कहाँ ।

हर इक आँख में आँसू हो, और हर इक हाथ में पत्थर हो,
बदलेगी तब ही यह दुनिया, पर ऐसे हालात कहाँ ।

0 comments

Post a Comment