19 मार्च, 2010

दिल दर्द के सागर मे



दिल दर्द के सागर मे डूब गया...

मगर इन आँखो से रोया ना गया..

इतना प्यार था इस दिल में उसके लिए..

की.... उसके बगैर कबर में भी सोया ना गया...

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें