13 March, 2010

ये कौन है



ये कौन है जो ऐसे मुझे खोल रहा है

मुझ में है मगर मुझसे अलग बोल रहा है


रख देता है ला ला के मुकाबिल नए सूरज

वो मेरे चरागों से कहाँ बोल रहा है


मेरा-जमाना कभी कुछ है तो कभी कुछ

तू कैसे तराजू में मुझे तोल रहा है

0 comments

Post a Comment