09 February, 2010

हस्ती मिट गई



हस्ती मिट गई आशियाना बनाने में..

उमर बीत गई गम बताने में..

एक ही पल में दूर ना हो जाना..

हमें तो उमर लग गई आप जैसा दोस्त पाने में..