05 January, 2010

माना की कल हम




माना की कल हम अकेले रह गऐ..

जुदाई के आँसू आँखों से बह गऐ..

रोते हुऐ को कोन चुप कराऐगा..

जो चुप कराते थे वो ही आज चुप हो गऐ..




0 comments

Post a Comment