08 January, 2010

तमन्नाओं में

तमन्नाओं में उलझाया गया हुँ

खिलौने दे के बहलाया गया हुँ

कफन में क्यूँ ना जाऊँ मुह छुपा के..

भरी महफिल में उठाया गया हुँ

0 comments

Post a Comment