13 January, 2010

आज करीब से




आज करीब से गुज़र कर गई है..

अनदाज-बे-नाम कर गई है..

मईय्यत पर मेरी रुक कर अनजान बन गई है..

पुछती है लोगों से..

ये किस की मईय्यत सजाई गई है..


0 comments

Post a Comment