Posts

Showing posts from December, 2009

फूल.. खुशबु के लिए

डाक्टर साहब

ਇਹ ਦਰਦ ਅਵੱਲਾ ਏ

तेरी साँसों मे बसी खुशबु

किसी की आँखों मे

ਅਸੀ ਧੁੱਪ ਸ਼ਮਝੀ

अगर रख सको तो

ख़ुद को इस दिल में

ਜਦ ਕਾਲਜ ਨੂੰ ਮੈਂ ਜਾਂਦਾ ਸੀ

कोई दीवाना कहता है