13 October, 2009

कोई दोस्त



कोई दोस्त ऐसा बनाया जाये,

जिसके आसुओं को पलकों में छुपाया जाए,

रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसा,

की अगर वो रहे उदास तो हमसे भी न मुस्कुराया जाये

0 comments

Post a Comment