16 September, 2009

दुर हमसे



दुर हमसे जा पाओगे कैसे..

हमको भुल पाओगे कैसे..

हम वो खुशबु हैं जो सांसो मे उतर जाऐ..

खुद अपनी सांसो को रोक पाओगे कैसे..

0 comments

Post a Comment