11 August, 2009

दोस्ती के पन्नो से



दोस्ती के पन्नो से भरी किताब हो तुम..


रिशतो के फुलो मे गुलाब हो तुम..

कुछ लोग कहते है कि दोस्त सचे नही होते..

उन लोगो के सवालो का जवाब हो तुम...

0 comments

Post a Comment