30 जुलाई, 2009

कुछ नशा




कुछ नशा तो आपकी बात मे है,

कुछ नशा तो धीमी बरसात मे है,

हमे आप युँ ही शराबी ना कहीऐ,

ये दिल पर असर तो आपसे मुलाकात का है ।

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें