13 जून, 2009

कोई दुनीयाँ मे खास नही होता

बिना जखम खाऐ ऐहसास नही होता..
हर कोई दुनीयाँ मे खास नही होता..
मगर जिस की आरजु दिल से हो जाती है..
वो ही शखस हमारे पास नही होता..

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें