13 June, 2009

हर तरफ खामोशी

हर तरफ खामोशी का साया है..
जिसे चाहते है हम वो अब पराया है..
गिर पडे है हम महोब्बत कि भुख से...
और लोग कहते है कि पी कर आया है

0 comments

Post a Comment