07 May, 2009

दोस्त की जरूरत

सांसो का पिंजरा किसी दिन टूट जायेगा
फिर मुसाफिर किसी राह में छूट जायेगा
अभी साथ है तो बात कर लिया करो
क्या पता कब साथ छूट जायेगा

क़यामत तक तुझे याद करेंगे
तेरी हर बात पर एतरार करेंगे
तुम्हे message करने को तो नहीं कहेंगे
फिर भी तुम्हारे message का इन्तजार करेंगे

रेत की जरूरत रेगिस्तान को होती है,
सितारों की जरूरत आसमान को होती है,
आप हमें भूल न जाना, क्योंकी
दोस्त की जरूरत हर इंसान को होती है.

0 comments

Post a Comment