25 April, 2009

जिंदा हूँ अभी

बेच जरुर दिया है किस्मत ने मुझे समय के हाथो,पर में बेचारा नहीं हूँ||
में थक जरुर गया हूँ दोस्तों पर अभी तक हरा नहीं हूँ ||
अकेला हूँ , तनहा हूँ , पर तन्हाई से डरा नहीं हूँ ||
मैं फिर उठ खडा होऊंगा दोस्तों , जिंदा हूँ अभी तक मरा नहीं हूँ ||

0 comments

Post a Comment