18 April, 2009

उन की तरफ से

ये उन की तरफ से... मेरे लिऐ

महफिल न सही तन्हाई तो मिलती है,
मिलन न सही जुदाई तो मिलती है,
कौन कहता है मोहब्बत में कुछ नही मिलता,
वफ़ा न सही बेवफाई तो मिलती है

0 comments

Post a Comment