Dil Ki Tabiyat - Sad Shayari

दिल की तबियत खराब है कबसे
दवा ले के तू कभी आई तो नहीं
दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह
जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं

Comments

Popular Posts