14 August, 2018

विधाता की अदालत

विधाता की अदालत  - hindi shayari
विधाता की अदालत में,
वक़ालत बड़ी प्यारी है,
ख़ामोश रहिये ..कर्म कीजिये..
आपका मुकदमा ज़ारी है।  

1 comments:

  1. 'किसी और का काम पूर्णता से करने से कहीं अच्छा है कि अपना काम करें, भले ही उसे अपूर्णता से करना पड़े

    ReplyDelete