24 June, 2016

खुद को हारकर - Shayari for You

खुद को हारकर - Shayari for You
खुद को हारकर तुझपे,ये भी एक जीत है,
मुहब्बत में दिल से दिल का बयां चाहिएं!
सारी खुशियां सिमटकर इन लम्हो में आ गई,
तु मेरे पास है,मैं तेरे पास हूँ और क्या चाहिएं!

1 comments: