28 April, 2016

मेरी चाहत - Love Hindi Shayari

Love Shayari in Hindi
मेरी चाहत की तू आजमाइश ना कर ।
ये इश्क है इबादत तू नुमाइश ना कर।।
रहने दे ये भ्रम के तू साथ है हमेशा।
भूल जाऊँ मैं तुझे, तू फरमाइश ना कर।।

0 comments

Post a Comment