04 मार्च, 2016

कहीं अंधेरा - Hindi Shayari

कहीं अंधेरा तो कहीं शाम होगी,
मेरी हर खुशी तेरे नाम होगी,
कभी माँग कर तो देख हमसे ऐ दोस्त,
होंठों पर हँसी और हथेली पर जान होगी !!

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें