07 February, 2016

दोस्त की खातिर - Propose Day

अपनी जिन्दगी का एक अलग उसूल है,
दोस्त की खातिर मुझे कांटे भी कबूल है,
हस के चल दूँ मैं कांच के टुकड़ो पर,
अगर दोस्त कहे मेरे बिछाए हुए फूल हैं..
-- Happy Propose Day

0 comments

Post a Comment