25 February, 2016

Ishq Shayari on Uljhi Sham

उलझी ‪‎शाम‬ को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में ‪‎तूफ़ान‬ बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।

0 comments

Post a Comment