21 जनवरी, 2016

चाहतों में - Love Shayari

चाहतों में ना कभी ख़ुद को भूल जाना यहाँ,
तनहा रहना तुम मगर दिल को ना लगाना यहाँ,
इश्क़ के रास्ते हुये आसाँ कब यहाँ ये बता,
जो गया तो लौटने की चाहत न करना यहाँ..

0 टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें