07 December, 2015

बरसो की चाहत - Love Sad Shayari

बरसो की चाहत को बदलते देखा,
चाहने वालो को मुकरते देखा,
कैसे सजाऐं फकीरा मुहब्बत का जहाँ,
हर सपने को टुट के बिखरते देखा...

0 comments

Post a Comment