21 सितंबर, 2015

हद-ए-शहर से

Life Shayari in Hindi
हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पांव पांव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली।

3 टिप्पणियाँ:

  1. देखे दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्लॉग में से एक ब्लॉग http://www.guruofmovie.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. nice shayari.
    meri shayari bhi padhe. http;//www.loveshauyarihindi.com par

    उत्तर देंहटाएं