23 December, 2014

Didaar Ki Aag - Love Shayari for You

दीदार की आग, जब दिल में भड़कने लगती है
तुझे देखने को, मेरी आँखें तरसने लगती हैँ...
बादलों के बरसने का हमें, इंतजार नहीं रहता.
तेरी याद में ये आँखें, खुद ही बरसने लगती हैं...!!