29 January, 2014

Hath Pakad Le - Love Hindi Shayari

Hath Pakad Le - Love Hindi Shayari
हाथ पकड़ ले अब भी तेरा हो सकता हूँ मैं
 भीड़ बहुत है, इस मेले में खो सकता हूँ मैं
पीछे छूटे साथी मुझको याद आ जाते हैं
 वरना दौड़ में सबसे आगे हो सकता हूँ मैं
कब समझेंगे जिनकी ख़ातिर फूल बिछाता हूँ
 इन रस्तों पर कांटे भी तो बो सकता हूँ मैं
इक छोटा-सा बच्चा मुझ में अब तक ज़िंदा है
 छोटी छोटी बात पे अब भी रो सकता हूँ मैं
सन्नाटे में दहशत हर पल गूँजा करती है
 इस जंगल में चैन से कैसे सो सकता हूँ मैं
सोच-समझ कर चट्टानों से उलझा हूँ वरना
 बहती गंगा में हाथों को धो सकता हूँ

4 comments:

  1. bina kisi galti ke saza ke haqdar huye hum
    muhabbat me teri tere talabgar huye hum
    do pal ki khushi ke liye zindagi bhar ke gunah gaar huye hum
    sirf ek khushi ki khatir kitne gamo ke karzdar huye hum
    na kisi ne sath diya hamara khud apne hi humraz huye hum
    ek sahare ki ummid me zindagi bhar bhatke
    achchai ke selaab me kuch galtiya kar baithe
    khud hi apni taqdeer bigar baithe hum



    kya hum sanky h jo ye sab
    likhte h sabka yehi sawal rehta h humse
    kash koi hame bataye kya ye hamari buri aadat h
    hame likhne ka behad shok h

    ReplyDelete