06 July, 2013

Phir Ek Cigaret Jala Raha Hu - Sad Hindi Shayari

Phir Ek Cigaret Jala Raha Hu - Sad Hindi Shayari
फिर एक सिगरेट जला रहा हुँ,
 फिर एक तीली बूझा रहा हुँ,
तेरी नजर में ये एक गुनाह है,
 मै तो तेरे वादे भुला रहा हुँ,
समझ मत इसको मेरी आदत,
 मै तो बस धुआँ उडा रहा हुँ,
ये तेरी यादों के सिले है,
 मै तेरी यादे जला रहा हुँ,
मैं पी कर इतना बहक चुका हुँ,
 कि गम के किस्से सुना रहा हुँ,
अगर तुम्हें भी गम है तो पास आओ,
 मैं पी रहा हुँ और पिला रहा हुँ,
हैं मेरी आँखे तो आज नम,
 मगर मैं सबको हसाँ रहा हुँ,
खो कर अपनी जिन्दगी मैं,
 अपने बे-इंतहा प्यार को भुला रहा हुँ,
एक सिगरेट की शमा के बहाने,
 मै अपने आप को जला रहा हुँ


Phir Ek Cigaret Jala Raha Hu,
 Phir Ek Teeli Bujha Raha Hu,
Teri Nazar Me Ye Ek Gunah Hai,
 Main To Tere Vaade Bhula Raha Hu,
Samajhna Mat Isko Meri Aadat,
 Main To Bus Dhuaan Udaa Raha Hu,
Ye Teri Yaado Ke Silsile Hai,
 Main Teri Yaade Jala Raha Hu,
Main Peekar Itna Bahak Chuka Hu,
 Ke Gham Ke Kisse Suna Raha Hu,
Agar Tumhe Bhi Gham Hai To Pas Aao,
 Main Pee Raha Hu Aur Pila Raha Hu,
Hai Meri Aankhen To Aaj Num,
 Magar Main Sabko Hansa Raha Hu,
Khokar Apni Zindagi Main,
 Apne Be-Inteha Pyar Ko Bhula Raha hu,
Ek Cigaret Ki Shama Ke Bahane,
 Main Apne Aap Ko Jala Raha Hu

1 comments:

  1. देखे भारत की हसीनाओ को एक क्लिक पर http://guruofmovie.blogspot.in/

    ReplyDelete